Design a site like this with WordPress.com
Get started

Business में Information Technology का महत्व

इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी (Information Technology) को आसान भाषा में हम आईटी ‘IT’ भी कहते हैं। जब भी हम टेक्नोलॉजी (Technology) की बात करते हैं तो हमारे दिमाग में कंप्यूटर, लैपटॉप या स्मार्टफोन (ComputerLaptop, Smart Phone) आदि ही आते हैं, लेकिन हकीकत ये हैं कि टेक्नोलॉजी (Technology) का मतलब इन सबसे कहीं ज़्यादा है।

टेक्नोलॉजी (Technology) को हिन्दी में ‘प्रौद्योगिकी’ कहा जाता है। विज्ञानं को किसी उद्देश्यपूर्ण कार्य के लिए इस्तेमाल करना प्रौद्योगिकी कहलाता है। टेक्नोलॉजी मनुष्य के द्वारा बनाई गयी ऐसी चीज़ है जो हर काम को आसान बना देती है। आज के समय में हम टेक्नोलॉजी (Technology) को बहुत तेज़ी से बढ़ते हुए देख रहे हैं और टेक्नोलॉजी के कारण ही हम कई सारीं आधुनिक सुविधाओं का इस्तेमाल कर पा रहे हैं, इसके साथ ही यह टेक्नोलॉजी हमारे काम करने के तरीके को भी बदल रही है और ज़्यादा आसान बना रही है।  

आज हमारे स्मार्ट फ़ोन, कंप्यूटर, इंटरनेट (Smart phone, Computer, Internet) ये सब हमारी ज़रूरत बन गए हैं। आज हम अपने आस-पास जितने भी टेक्निकल बदलाव (technical changes) देख रहे हैं वो सब इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी की वजह से ही संभव हुए है।  

इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी का अर्थ

अगर हम बात करें इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी (Information Technology) की, तो यह इनफार्मेशन यानि सूचना और टेक्नोलॉजी यानि प्रौद्योगिकी से जुड़ा है, इसे आज कल हर क्षेत्र में इस्तेमाल किया जा रहा है। इसमें इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस (electronic devices) या कंप्यूटर (computer) का इस्तेमाल करके अध्ययन किया जाता है। अगर हम बात करें बिज़नेस में इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल की तो बिज़नेस में आजकल सभी काम कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से ही किये जाते हैं।

कंप्यूटर के द्वारा किये जाने वाले काम या इससे जुड़ी हुई चीज़े जैसे- इंटरनेट, नेटवर्किंग, डाटा मैनेजमेंट सिस्टम आदि (Internet, Networking, Data Management System) ये सभी इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी का ही हिस्सा है। आज की लगभग सभी मॉडर्न टेक्नोलॉजी (modern technology) IT पर आधारित है।

कई कंपनियां, चाहे बड़ी हों या छोटी, एक अच्छे आईटी विभाग (IT department) के बिना सफलता (success) प्राप्त नहीं कर सकती, व्यवसाय में दिन प्रतिदिन के कामों में IT का इस्तेमाल होता ही है। ईमेल भेजने से लेकर पासवर्ड बदलने तक, हर चीज़ आईटी की मदद से सम्भव हो रही है। अतः किसी भी व्यवसाय की सफलता का आधार आईटी डिपार्टमेंट है। आईटी के जरिये व्यवसाय अधिक कुशल व उत्पादक बनता है।

व्यवसाय में इनफार्मेशन टेक्नॉलजी की भूमिका

  • कंपनी की उत्पादक क्षमता (productivity) में वृद्धि करना।
  • समय की बचत करना।
  • व्यावसायिक प्रदर्शन को बेहतर बनाना।
  • डेटा की सुरक्षा और समस्या निवारण करना।
  • व्यापार में पैसे की बचत करना।
  • कस्टमर एक्सपीरियंस (Customer experience), और संचार में सुधार करना।
  • व्यवसाय में संचार प्रणालियों को सुव्यवस्थित करना।
  • प्रबंधकीय निर्णय लेने में सहायता करना।
  • विश्व स्तर पर व्यवसाय के विस्तार में मदद करना।
  • कंपनी के प्रचार में मदद करना।

व्यवसाय में इनफार्मेशन टेक्नॉलजी का महत्त्व

व्यवसाय में सुरक्षा का मतलब है कंपनी के डाटा को गुप्त रखना ताकि कंपनी का डेटा लीक न हो। आईटी विभाग डेटा की सुरक्षा सुनिश्चित करता है, जिसका अर्थ है कि उद्योग-मानक सुरक्षा उपायों के लिए व्यवसाय में आईटी डिपार्टमेंट बहुत महत्वपूर्ण है।  आईटी डिपार्टमेंट को यह सुनिश्चित करना होता है कि कंपनी को टेक्निकल क्षेत्र में कोई नुक्सान न हो साथ ही आईटी डिपार्टमेंट डेटा संरक्षण कानूनों का पालन करते हुए कंपनी के डेटा की सुरक्षा करते हैं।

समस्या निवारण का तात्पर्य डिजिटल दुनिया (Digital world) में समस्या-समाधान से है। समस्या निवारण कई अलग-अलग चीजों पर लागू किया जा सकता है, जैसे कि कंप्यूटर या सिस्टम पर कुछ खराबी या किसी सॉफ्टवेयर (software) या हार्डवेयर (hardware) की खराबी को सही करना। इसके साथ ही समस्या की जड़ पता करना कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है। किसी भी समस्या का समाधान करने के लिए उस समस्या पर गहन शोध की आवश्यकता होती है। आईटी डिपार्टमेंट यही काम करता है, जैसे टेक्निकल समस्याओं (technical problems) को पकड़ना और उनका समाधान करना।

जब कंप्यूटर के साथ कोई समस्या आती है, जैसे किसी कर्मचारी का कंप्यूटर लॉक हो गया, पासवर्ड भूल गया है या किसी विशेष ड्राइव तक पहुंच नहीं पा रहा है, तो आईटी आमतौर पर इन समस्याओं को भी हल  करता है।

व्यवसाय में किसी तृतीय पक्ष द्वारा डेटा और सिस्टम के हेरफेर को रोकने का काम भी आईटी डिपार्टमेंट करता है। इसके अलावा आईटी, व्यापार बिक्री (businesses sales), लेनदेन (transactions), वित्तीय रिकॉर्ड (financial records), उत्पाद कैटलॉग (product catalogues), ग्राहक प्रोफाइल (customer profiles) आदि गतिविधियों के डेटाबेस का निर्माण, और उसके रखरखाव की भी जिम्मेदारी लेता है।

क्लाउड-आधारित समाधान, एप्लिकेशन, स्टोरेज, ऑन-डिमांड सेवाओं, कंप्यूटर नेटवर्क, या अन्य संसाधनों को संदर्भित करता है, जिन्हें किसी अन्य प्रोवाइडर के साझा क्लाउड कंप्यूटिंग ढांचे के माध्यम से इंटरनेट कनेक्शन के साथ एक्सेस किया जाता है। क्लाउड-आधारित समाधान व्यवसायों और उपयोगकर्ताओं दोनों के लिए लाभ प्रदान करते हैं। यह बजट पर स्टार्टअप्स (Startups) के लिए मददगार है क्योंकि यह खर्च को कंपनी के विकास के अनुरूप रखता है। यदि किसी कारण से व्यापार में गिरावट आती है तो उसके अनुसार योजनाओं को डाउनग्रेड भी किया जा सकता है।

  • डेटा का विश्लेषण करना (Analyse data)

सूचना प्रौद्योगिकी विशिष्ट डेटा (specific data) का विश्लेषण करने में सक्षम है और डेटा में प्रस्तुत रुझानों और सूचनाओं का उपयोग करके तदनुसार व्यावसायिक यात्रा की योजना बनाने में मदद करती है। आईटी, कंपनी के ग्रोथ को बढ़ावा देती है। आज के समय में, डिजिटल मार्केटिंग एक ऐसी चीज है जिसके बिना व्यवसाय नहीं रह सकते क्योंकि आज हम ऑनलाइन दुनिया में चले गए हैं और उपयोगकर्ताओं के पास अपने स्मार्टफोन उपकरणों से नेट 24/7 तक पहुंच है। इंटरनेट एक डिजिटल मार्केटिंग प्लेटफॉर्म प्रदान करता है जो व्यवसायों को अपने उत्पादों या सेवाओं को वैश्विक बाजार में बढ़ावा देता है। आईटी डेटा का विश्लेषण करके कंपनी के उत्पाद एवं सेवाओं को लोगों तक पहुँचता है।

व्यापार में त्वरित और प्रभावशाली संचार बहुत आवश्यक है। हम एक ऐसे युग में रहते हैं जहां आप आमतौर पर किसी व्यवसाय से तुरंत संपर्क कर सकते हैं। एक कंपनी की सफलता काफी हद तक उसके ग्राहकों की जरूरतों, व्यवहारों, खरीद प्रवृत्तियों, व्यवहारों और संतुष्टि के पैमानों (customer’s needs, behaviours, buying trends, behaviours and satisfaction scales) को समझने पर निर्भर करती है। कुशल और त्वरित संचार सबसे अच्छा जरिया है ग्राहकों को आकर्षित करने का। सूचना प्रौद्योगिकी की सबसे खास बात यह है कि यह व्यवसायों को वैश्विक स्तर पर वास्तविक समय में संभावित लाखों ग्राहकों के साथ संवाद करने की अनुमति देती है। आईटी के जरिये ग्राहकों के साथ घर बैठकर कई तरीकों से संवाद कर सकते हैं। जैसे ईमेल (Email), सोशल मीडिया चैट (social media chat), वीडियो कॉल (video call), वेबिनार (Webinar), ईमेल न्यूज़लेटर्स या स्मार्टफोन (Smart phone) के माध्यम से भी आप अपने ग्राहकों के साथ कनेक्ट हो सकते हैं।

इस आर्टिकल में, आपको व्यवसाय में सूचना प्रौद्योगिकी की क्या भूमिका के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई गयी। जिस डिजिटल युग में रहते हैं, वहां सूचना प्रौद्योगिकी के लाभों को प्राप्त किए बिना दीर्घकालिक व्यावसायिक सफलता प्राप्त करना असंभव है। इसलिए व्यवसाय शुरू करने से पहले इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के बारे में पूरी तरह से समझना बहुत आवश्यक है।

To Read More Blogs on Business (In Hindi), Please Click Here

To Visit our Global Knowledge Sharing Platform (In English), Please Click here

Published by Think With Niche

Think With Niche is a Global Business Blogging Platform for Businesses & Entrepreneurs who Aspire to Learn & Grow by Upgrading their Business Know-how with Our Publishing Services. Here Leaders & Writers Share their Knowledge & Experience on Business & its Ecosystem as Success Stories, Blog Posts and News.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: